Bachke Rehana Humse

किनारों की कभी हद नहीं होती,
तारों की कभी गिनती नहीं होती,
बचके रहना हमसे,
क्योंकि हमारे दिल में कैद दोस्तों की कभी ज़मानत नहीं होती…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.