Barish Romantic Shayari

तुम्हें बारिश पसंद है मुझे बारिश में तुम,
तुम्हें हँसना पसंद है मुझे हँस्ती हुए तुम,
तुम्हें बोलना पसंद है मुझे बोलते हुए तुम,
तुम्हें सब कुछ पसंद है और मुझे बस तुम।

बारिश रोमांटिक शायरी


ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर।

Pehli Barish Romantic Shayari


जब भी होगी पहली बारिश, तुमको सामने पायेंगे,
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम देख तो पायेंगे।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.