Bin Baat Ke Hi Ruthne Ki Aadat Hai

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहे मेरा क्या है,
मैं तो आइना हूँ,
मुझे तो टूटने की आदत है…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.