Fursat Kise Hai Zakhmon Pe Marham Lagane Ki

फुरसत किसे है जख्मों पे मरहम लगाने की,
निगाहें बदल गई अपने और बेगाने की,
तु ना छोडना दोस्ती का हाथ वरना,
तमन्ना मिट जाएगी कभी दोस्त बनाने की…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.