Galat Fahamiyon Ne Ki Dooriyan Paida

“गलतियों से जुदा तू भी नहीं,
मैं भी नहीं,”
“दोनों इंसान है, खुदा तू भी नहीं,
मैं भी नहीं..”
“तू मुझे और में तुझे इल्ज़ाम देते है मगर,
अपने अंदर झांकता तू भी नहीं,
मैं भी नहीं”
“गलत फहमियों ने कर दी दोनों मैं पैदा दूरियां,
वर्ना फितरत का बुरा तू भी नहीं,
मैं भी नहीं..”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.