Hire Ko Parakhana Ho To

हिरे को परखना है तो,
अँधेरे का इंतजार करो,
धुप में तो कांच के टुकड़े भी,
चमकने लगते है…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.