Kash Koi Insaniyat Day Bhi Hota

काश कोई रोटी डे होता,
तो लोग भुख से बिखलते लोगों को रोटी बांटते,
काश कोई कपडा डे होता,
तो लोग ठंड से ठिठुरते लोगों को कपडे बांटते,
काश कोई इंसानियत डे भी होता,
तो लोग इंसानियत क्या होती है समझ पाते…

2 thoughts on “Kash Koi Insaniyat Day Bhi Hota”

  1. काश कोई रोटी डे होता,
    तो लोग भुख से बिखलते लोगों को रोटी बांटते,
    काश कोई कपडा डे होता,
    तो लोग ठंड से ठिठुरते लोगों को कपडे बांटते,
    काश कोई इंसानियत डे भी होता,
    तो लोग इंसानियत क्या होती है समझ पाते…

    उपरोक्त कविता मेरे द्वारा रचित है।

    Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
अपना एडब्लॉकर बंद करे - Adblocker Detected!

कृपया सेटिंग में जाकर अपना एडब्लॉकर बंद करे। इस पेज का अच्छा कंटेंट विज्ञापन के साथ पढ़े और हमें अच्छा काम करने के लिए सहयोग करे।

हा बंद किया!
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro