Khuda Ne Uski Khwahish Puri Kar Di

बिन बताये उसने ना जाने क्यों ये दूरी कर दी,
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी,
मेरे मुकद्दर में ग़म आये तो क्या हुआ,
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.