Mere Yaar Bina Koi Mahafil Na Sajti Hai

मेरे यार बिना कोई महफिल ना सजती है,
जैसे चाँद बिना रात अधुरी लगती है,
ऐ खुदा सब को ऎसा यार देना,
जिसके आने से जिंदगी रोशन सी लगती है…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.