Patthar Ki Hai Dunia Jazbat Nahi Samjhti

पत्थर की है दुनिया जज़्बात नहीं समझती,
दिल में है क्या वो बात नहीं समझती,
तनहा तो चाँद भी है सितारों के बीच मगर,
चाँद का दर्द कमबख्त रात नहीं समझती…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
अपना एडब्लॉकर बंद करे - Adblocker Detected!

कृपया सेटिंग में जाकर अपना एडब्लॉकर बंद करे। इस पेज का अच्छा कंटेंट विज्ञापन के साथ पढ़े और हमें अच्छा काम करने के लिए सहयोग करे।

हा बंद किया!
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro