Rishte Nibhana Sikho

कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,
कोई रुठे तो उसे मनाना सीखो,
रिश्ते तो मिलते है मुकद्दर से,
बस,
उन्हें खूबसूरती से निभाना सीखो…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.