Sab Dost Bichad Gaye Hamse

न जाने क्यूँ हमें आँसू बहाना नहीं आता,
न जाने क्यूँ हाले दिल बताना नहीं आता,
क्यूँ सब दोस्त बिछड़ गए हमसे,
शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.