Subah Ki Yaad Shayari

हर सुबह की धूप कुछ याद दिलाती है,
हर महकती खुशबू एक जादू जगाती है,
ज़िन्दगी कितनी भी व्यस्त क्यों न हो,
निगाहों पर सुबह-सुबह
“अपनों” की याद आ ही जाती है…
Good Morning!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.