Jo Khafa Na Ho Jaye Wo Dost Kaisa

Jo Khafa Na Ho Jaye Wo Dost Kaisa

फासले दोस्ती मे कभी कभी आते रहते है, दोस्ती फिर भी दो दिलों को मिला ही देती है, जो खफा ना हो जाए वो दोस्त कैसा, सच्ची दोस्ती फिर भी दोस्तों को मिला ही देती है…