Mayus Na Hona Zindagi Me Kabhi Ae Dost

Mayus Na Hona Zindagi Me Kabhi Ae Dost

बुझी हुई शमा फिर से जल सकती है,
तूफानों मे घिरी कश्ती फिर किनारे लग सकती है,
मायूस ना होना जिंदगी मे कभी ए दोस्त,
यह किस्मत है जो कभी भी बदल सकती है…