Takdir Ke Likhe Par Kabhi Shikva Na Kiya Kar

तकदीर के लिखे पर कभी शिकवा ना किया कर ए बंदे,
तू इतना अकलमंद नही जो खुदा के इरादे समझ सके…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.