Tumhare Hi Khayalo Me Khoye Rahte Hai

जब खामोश आँखों से बात होती है,
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
तुम्हारे ही ख्यालों में खोये रहते हैं,
पता नहीं कब दिन कब रात होती है…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.