Wo Maa Hai

रुके तो चाँद जैसी है, चले तो हवाओं जैसी है,
वो ‎माँ‬ ही है, जो धूप में भी छाँव जैसी है…

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.